Library

पुस्तकालय को स्वर्गतुल्य स्थान, ज्ञान का मन्दिर कहा जाता है। किसी भी शैक्षणिक संगठन में पुस्तकालय एक आभूषण-अलंकार का कार्य करता है। महाविद्यालय का पुस्तकालय भवन विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा निर्धारित मापदण्ड़ों को पूर्ण करता हुआ विद्वजनों, पाठकों तथा विद्यार्थियों की विविधतामयी आवश्यकता को पूर्ण करने हेतु दीर्घकालीन समयावधि से प्रतिबद्ध रहा है। महाविद्यालय के विभिन्न संकायों यथा-कला, वाणिज्य, कम्प्यूटर विज्ञान, प्रबन्ध और नवीनतम संकाय विज्ञान जैसे विभिन्न विषयों की पुस्तकें छात्र-ज्ञान हित में उपलब्ध कराता हुआ यह पुस्तकालय 46789 पुस्तकों का विषाल संग्रहण केन्द्र रहा है।

पुस्तकों के अतिरिक्त समसामयिक घटनाओं के त्वरित ज्ञान हेतु, प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी हेतु 43 पत्रिकाओं, 05 जर्नल एवं 04 समाचार पत्रों के साथ-साथ विषय-वार्षिकांकों, विशेषांकों का अर्जन पुस्तकालय द्वारा किया जाता है।

पुस्तकालय में सामान्य पाठकों की सुविधार्थ विषाल सुज्जित वाचनालय कक्ष के साथ तकनीकी विषयों के प्रचार-प्रसार हेतु इन्टरनेट सेन्टर एवं नेटवर्क रिर्सोस सेन्टर की सुविधा निःशुल्क करवायी जा रही है।

पुस्तकालय में स्वशासन की दिशा में उल्लेखनीय सफलता प्राप्त करते हुए SOUL Software का प्रयोग भी किया जा चुका है। पुस्तकालय को Digital करने की दिशा में कार्य प्रगति पर है।